Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे करे । Muslim ladki ki pahachan kaise kre

मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे करे । Muslim ladki ki pahachan kaise kre 

अक्सर लोग लोगों के मन में सवाल आता है कि मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे जाने। ऐसे में किसी भी लड़की के बारे में जानना उनके लिए मुश्किल हो जाता है।  परंतु आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताएंगे muslim ladki  को आप किस प्रकार पहचान सकते हैं। लड़कियों के बात करने से,  उनके पोशाक से  तथा उनके नाम से वह लड़की किस धर्म से संबंधित है यह जानकारी का अंदाजा लगा सकते हैं।  हालांकि मुस्लिम लड़कियों को पहचानना  अन्य लड़कियों के मुकाबले अधिक आसान होता है।  किसी भी व्यक्ति से दोस्ती करने के लिए उस व्यक्ति के बारे में जानना जरूरी है।तो आइए जानते हैं मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे करें।

मुस्लिम लड़कियों की पहचान
मुस्लिम लड़कियों की पहचान 

    मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे करे। Muslimass ladki ki pahachan kaise kre 

    दुनिया में कई प्रकार के धर्म है. अलग-अलग धर्म के अनुसार उनका अलग-अलग पहनावा होता है। उसी प्रकार मुस्लिम लड़कियों की पहचान उनके पहनावे से की जाती है। अक्सर नकाब का पहनावा होने के कारण मुस्लिम लड़की को आसानी से पहचाना जा सकता है। इसके अलावा सिर पर दुपट्टा, मांग में सिंदूर का ना होना तथा सिर पर बिंदी का ना होना, अल्हा को मानना, आंखों में सुरमा (काजल ) होना, हाथ में बंधा हुआ काला धागा और  बातों में प्यारी सी मिठास होना आदि चीजें लड़की के मुस्लिम धर्म को दर्शाती है। 


    मुस्लिम लड़कियों की पहचान जानने का तरीका 

    muslim girl को जानने के तथा पहचानने के आसन तरीके निचे दिए गये है पूरा पढ़े.  


    हिजाब से मुस्लिम लड़कियों की पहचान करे 

    मुस्लिम लड़कियों का पोशाख बुर्क़ा होता है। बुर्क़ा को नकाब तथा हिजाब भी कहा जाता है। मुस्लिम लड़कियों की पहचान चेहरे पर बुर्क़ा लपेटने से आसानीसे होती है बुर्क़ा महिलाओं की हिफाजत करता है इसलिए इस्लाम धर्म में पड़दा और बुर्क़ा को सबसे खूबसूरत चीज  बताई गई है। ऐसे में सर्दी हो या गर्मी महिलाओं को हर वक्त यह लिवाज  को पहनना पड़ता है। मुस्लिम लड़कियों को जन्म के साथ ही हिजाब रखने की शिक्षा दी जाती है। नकाब लगाने के पीछे का कारण यह माना जाता है की, कुरान के अनुसार लड़कियों को किसी पराए पुरुष को अपना चेहरा नहीं दिखाना चाहिए। लड़की की खूबसूरती पर सिर्फ उसके पति अहमियत होती है इसी के कारण मुस्लिम लड़कियां बाहर जाते वक्त चेहरे पर बुर्क़ा पहनती है। जिससे उनकी आंखें दिखाई देती है। परंतु आज के आधुनिक युग में ऐसी सोच लड़कियों के लिए उनकी आजादी पर एक दबाव है। और इसी कारण इस्लाम धर्म में महिलाओं को  और उसकी तुलना में  कम लेखा जाता है। 

    कुरान शरीफ की तिलावत हिंदी में 

    नाम से मुस्लिम लड़कियों की पहचान करें

    दुनिया में विविध प्रकार के धर्म है जैसे हिंदू, मुस्लिम, क्रिश्चियन, जैन आदि। उसी प्रकार विविध धर्म के अनुसार उनका नामकरण भी होता है। नाम के उच्चारण द्वारा अलग-अलग  धर्मा की पहचान समझी जाती है।  जैसे कि

    हिंदू धर्म मैं आपको इस प्रकार के नाम देखने को मिलेंगे जैसे श्वेता, वैशाली, वैष्णवी, प्रियांशी, स्नेहा, नेहा, मनीषा आदि।

    उसी प्रकार  मुस्लिम धर्म में आपको  इस प्रकार लड़कियों के नाम  देखने को मिलेंगे जैसे  नाजिया, रुबीना, अल्फिया,  हिना, शाहिदा, अमायरा आदि इस प्रकार नाम से मुस्लिम लडकियों की पहचान की जा सकती है 


    मुस्लिम लडकियों के चेहरे की मासूमियत 

    इस्लाम धर्म में महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले कम आजादी मिली हुई है। इसका शिकार अक्सर महिलाएं होती है। इसीलिए नौकरी तथा उन्नति के क्षेत्र में अक्सर मुस्लिम महिलाओं का  रुतबा देखने को नहीं मिलता। इस्लाम धर्म में मुस्लिम लड़कियों का जीवन अक्सर डरा हुआ देखने को मिलता है जिसकी वजह से महिलाएं हमेशा खौफ में रहती है और मुझे चाह कर भी अपनी मन की बात नहीं बोल पाती। इसके अलावा इस्लाम में छोटी-छोटी बातों पर मौलवी योग के फतवे जारी किए जाते हैं और अधिकतर यह फतवे मुस्लिम लड़कियों तथा महिलाओं के लिए पाए जाते हैं जिसकी वजह से वह अपनी आवाज नहीं उठा पाती। इस तरह मुस्लिम लड़कियों के मन में हमेशा या डर रहता है कि वह अन्य महिलाओं के मुकाबले में  ज्यादा पाबंदी जीवन जीती है। ऐसा  जरूरी नहीं है कि हर मुस्लिम लड़की इस कारणों से इत्तेफाक रखती हो इनमें से कुछ ऐसे लड़कियां भी  होंगी जीने सदियों से चली आ रही नियम कानून अपने जिंदगी का एक हिस्सा लगता है इन सब की आदत होने की वजह से वह ऐसे प्रकृति में  खुशहाल जीवन  बिताती है। परंतु कई मुस्लिम लड़कियां जो आजादी का  जीवन जीना चाहती है  वह अपने समाज के लिए आवाज उठाती  रहती है। 

    जानिए करोडपति बनाने वाली धन योग हस्त रेखा 

    आज हमने क्या सीखा 

    अब आप मुस्लिम लड़कियों की पहचान करना जान गए होंगे।  परंतु एक मनुष्य होने के नाते किसी भी महिला तथा स्त्री का आदर करना  चाहिए। चाहे फिर वह किसी भी धर्म और जाति की हो। महिलाओं का अनादर करना यह मानवता की संस्कृति के खिलाफ है। इसके साथ साथ महिलाओं का विश्वास टूट जाए ऐसी कोई हरकत ना करें। उन्हें घर में बराबरी का हक प्रदान करें ताकि वह खुशहाल जीवन जी सके। आज भी कई देशों में  महिलाओं के प्रति  कठोर निर्बंध पाए जाते हैं, जिसके कारण वेह  अपने हक के लिए आवाज उठाती है।  महिलाओं की मान सुरक्षा  के बारे में आपकी क्या राय है यह कमेंट में जरूर बताएं।

    "औरत को देने वाले उपहार में सबसे बेहतर चीज है, उसका सम्मान करना ह।"- मानवता की राह


    उम्मीद करता हूं दोस्तों आपको हमारी  यह पोस्ट “मुस्लिम लड़कियों की पहचान कैसे करे । Muslim ladki ki pahachan kaise kre” जरूर पसंद आई होगी।

    यह पढ़े 

    ताकतवर बॉडी बनाने का घरेलू उपाय 

    चिया बिज खाकर वजन घटाए  


    Reactions

    Post a Comment

    0 Comments

    Ad Code