Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Covid-19 वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है सम्पूर्ण हिंदी जानकारी

Covid-19 वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है सम्पूर्ण हिंदी जानकारी

भारत के साथ साथ अन्य कई देशो में कोविड-19 टीकाकरण अभियान चल रहा है। आज भी कई लोग कोविड-19 वैक्सीन लेने से घबरा रहे है उनके मन में वैक्सीन को लेकर कई सवाल है जैसे  वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है, वैक्सीन कैसे काम करती है, कोविड-19 वैक्सीन के प्रकार कोनसे है, कोनसी वैक्सीन लगवाये, क्या कोविड -19 वैक्सीन लगाने पर साइड इफेक्ट्स हो सकते है आदि सभी सवालों से वे वंचित है इस पोस्ट में covid-19 के टीकाकरण सम्बंधित सभी सवालों के जवाब बताये गये है तो आइये जानते है Vaccine ke jariye sharir me kya bheja jata hai hindi jankari विस्तार से।

वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है, Vaccine ke jariye sharir me kya bheja jata hai hindi jankari
वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है


    वैक्सीन क्या है?

    वैक्सीन एक ऐसी औषधि दवा है जो किसी विशिष्ट बीमारी सम्बंधित संक्रमक जीवाणु से लड़ने के लिए  शरीर में इंजेक्शन की मार्फत डाला जाता है जिसे वैक्सीन कहते हैं, ताकि शरीर की इम्यूनिटी पावर बढ़ने को मदद मिले। बाहरी खान-पान से आने वाले बैक्टीरिया तथा वायरस को नष्ट करने के लिए शरीर की रोग प्रतिकारक शक्ति  मजबूत होना बेहद जरूरी होता है। वैक्सीन शरीर की रोग प्रतिकारक शक्ति को बढ़ाता है जिससे वायरस और बैक्टीरिया नष्ट होने में मदद मिलती है।


    वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है

    आज भी लोग कोविड-19 का टीकाकरण लगवाने में डर रहे है. असल में वेह "वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है"  यह जानने की कोशिश कर रहे है। वैक्सीन के जरिए शरीर में निष्किय (inactive) वायरस भेजा जाता है। यह covid-19 बीमारी का सक्रिय बक्टेरिया होता है जिसे असक्रिय (inactive) बनाकर शरीर में भेजा जाता है। यह वायरस एक प्रकार का प्रोटीन है जो शरीर की Adaptive इम्युनिटी को बढ़ता है और शरीर में  एंटीबॉडीज तैयार करने में मदद करता है ताकि शरीर में मौजूद विषारी वायरस और बैक्टीरिया से लढकर उन्हें नष्ट करने में मदत करता है। यह निष्क्रिय (inactive) वायरस शरीर में जाने के बाद सक्रिय (Active) होता है, जो विशिष्ट एंटीबॉडीज तैयार करता है। यह एंटीबॉडीज शरीर के वही वायरस तथा बक्टेरिया को नष्ट करती है जो शरीर को रोग से संक्रमित कर रहे होते है। बताने का तात्पर्य यह है कि कोविड-19 यह लंबे समय तक चलने वाली बीमारी है जिसे वैक्सीन के जरिए बढ़ने से रोका जा सकता है।  


    वैक्सीन कैसे काम करती है 

    जैसा की आपने अभी जाना  "वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है" परंतु कोविड-19 की वैक्सीन को लेकर कई सवाल किए जा रहे हैं, उनमें से एक सवाल वैक्सिंग कैसे काम करती है यह अक्सर लोगों के मन में रहता है। आपको बता दू वैक्सीन के जरिए शरीर में (inactive) असक्रिय  वायरस भेजा जाता है  जो शरीर में एंटीबॉडीज पैदा करता है यह एंटीबॉडीज शरीर के विषाणु  वायरस तथा Covid-19 संक्रमण के बैक्टीरिया को ढूंढकर मारता है और बाहर से आने वाली बीमारी तथा वायरस का शरीर में संक्रमण होने से रोकता है। जिसका प्रभाव लंबे समय तक रहता है। कहने का तात्पर्य यह है कि वैक्सीन  पूर्ण रूप से शरीर की इम्युनिटी पावर ( रोगप्रतिकारक शक्ति)  को बढ़ाने में मदद करता है ताकि  शरीर में मौजूद विशिष्ट बीमारी,  विषाणु बक्टेरिया तथा वायरस को लड़ने में मदद मिल सके और अन्य बाहरी संक्रमण से  बचाया जा सके।


    कोविड-19 वैक्सीन के प्रकार 

    हालांकि कोरोना वैक्सीन के कई प्रकार है लेकिन  इंडियन गवर्नमेंट  की तरफ से कोविड-19 के टीकाकरण में  Covaxin और Covishield  वैक्सीन मुफ्त दिए जा रहे हैं। जिसे आप कोविड-19 टीकाकरण का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करके मुफ्त वैक्सीन का लाभ उठा सकते है। तो आइए जानते हैं कोरोनावायरस इन के प्रकार विस्तार से।

    1. Covaxin :

    Covaxin यह  यह कोविड-19 के मृत कोशिका (Dead Cell) के हिस्से को निष्किय रूप (Inactive Form) से  शरीर में डाला जाता है जिसमें वायरस के  सभी अंगो को डाला जाता है जिससे शरीर की इम्युनिटी मजबूत होती है। यह वैक्सीन भारत बायोटेक के साथ मिलकर हैदराबाद में बनाई गई है

    2. Covishield :

    Covishield यह कोविड-19 के अहानिकारक हिस्से के द्वारा बनाई गई है जिससे शरीर की Adaptive इम्युनिटी बढाई जाती है, जो की वह Inactive Virus होने के कारन शरीर में बीमारी पैदा नही कर सकती। कोविशिल्ड यह वैक्सीन AstraZeneca के साथ मिलकर सिरम इंस्टीट्यूट पुणे में बनाई गई है। 

    3. Sputnik vaccine: 

    स्पुतनिक यह COVID-19 के लिए एक एडेनोवायरस वायरल वेक्टर वैक्सीन है जो रशिया के Gamaleya Research Institute of Epidemiology and Microbiology द्वारा बनाई गई है।


    कोनसी वैक्सीन लगवाये 

    भारत देश में कोविड-19 की वैक्सीन का टीकाकरण अनिवार्य किया है। हालांकि इंडियन गवर्नमेंट ने 2 प्रकार के वैक्सीन की मंजूरी दी है। जिसमें Covaxin और Covishield वैक्सीन का टीकाकरण सरकार द्वारा मुफ्त दिए जा रहे हैं। इसके आलावा आप रशिया की बनाई Sputnik vaccine भी लगवा सकते है परंतु इसके लिए आपको 600 रूपये प्रति डोस पैसे देने पड़ेंगे। ऐसे में कौन सी वैक्सीन लगवाएं यह जानना जरूरी होता है। तीनो वैक्सीन का उद्देश्य एक ही है की  कोविड-19 संक्रमण के कोशिकाओं को नष्ट करके कोविड-19 बीमारी की बढ़ती मृत संख्या को कम किया जा सके।

    हालांकि यूरोप के कुछ लोगो में Covishield वैक्सीन लगने के बाद शरीर में खून का थक्का (ब्लड क्लोटिंग)  की समस्या पाई गई है परंतु यह केवल वैक्सीन से हुआ है यह बात अभी तक सामने नहीं आई है।


    क्या कोविड -19 वैक्सीन लगाने पर साइड इफेक्ट्स हो सकते है?

    वैक्सीन का टीकाकरण करने पर किसी प्रकार के साइड इफेक्ट नहीं होते हैं। Covaxin और Covishield तथा अन्य कोविड -19 वैक्सीन के कोई दुष्प्रभाव नहीं है। वैक्सीन लगाने के बाद कुछ लोगो में हल्के लक्षण पाए गये हैं जैसे  

    • हल्का बुखार आना 
    • शरीर में दर्द 
    • मांसपेशियों में दर्द 
    • इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द होना
    • कमजोरी आना

    आदि प्रकार के लक्षण पाए गए हैं जो केवल 1 से 2 दिन के लिए उत्तेजित रहते हैं। जिसके बाद वह अपने आप ठीक हो जाते हैं। कोविड-19 टीकाकरण के प्रमुख दुष्प्रभाव (Major Side Effect) नहीं पाए गए हैं। इस बात का ध्यान रहे की कोविड-19 के किसी भी 1 वैक्सीन का टीकाकरण 2 बार करे। कोविड-19 के 2 डोस के अंतराल में 6 से 8 हफ्ते का अंतराल जरुर रखे।


    कोविड -19 टिकाकरन किसे नही लगाना चाहिए

    कोविड-19 वैक्सीन  सभी बीमारियों के लिए उचित है यह कहना उचित नहीं है। कोविड-19 का टीकाकरण  करने से पहले इस बात का ध्यान रखें यदि  आपके प्लेटलेट्स कम है,  थ्रोंबोसाइटोपेनिया से पीड़ित है तथा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्रोरीन  संबंधित दवाइयों का सेवन कर रहे हैं ऐसे व्यक्ति वैक्सीन लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। ताकि ऐसे हालात में वैक्सीन लेने पर परस्पर क्रिया क्या हो सकती है यह  जानकर  वैक्सीन लेना उचित है तथा नहीं है यह  जानने में मदद  मिलती है। इसके अलावा  गर्भवती महिला  और 18 आयु के कम उम्र वाले  बच्चों को कोविड-19 का टीकाकरण लेने की अनुमति नहीं मिली है। 


    वैक्सीन लगवाने के बाद बुखार क्यों आता है 

    हमारे शरीर की एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, जब भी कोई उपचारिक पदार्थ वैक्सीन द्वारा शरीर में जाता है तो शरीर का डिफेंस सिस्टम उसे पहचान लेता है और वेह उस पदार्थ को नष्ट करने के लिए एंटीबाडीज पैदा करता है परंतु शरीर का डिफेंस सिस्टम उसे नही मार पता जिसके कारन शरीर का तापमान बढ़ता है और बुखार आता है। वैक्सीन लगवाने के बाद बुखार आना यह शरीर का अच्छा संकेत होता है जिससे यह पता चलता है कि शायरी में एंटीबॉडीज का बनना शुरू हो गया है। एंटीबॉडीज, शरीर के विषाणु कोविड-19 के सक्रिय बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करता है ऐसे लिए वैक्सिंग लगवाने के बाद शरीर में एंटीबॉडीज का बनना बेहद जरूरी होता है। 


    कोविड-19 वैक्सीन लेने के बाद बुखार आने पर क्या करे

    कोविड-19 वैक्सीन लेने के कुछ देर बाद बुखार आने पर सिर्फ Paracetamol (पेरासिटामोल) दवाई का सेवन करें। इसके अलावा दिन भर में किसी अन्य दवाई का सेवन ना हो इस बात का ध्यान रहे ध्यान रहे। यह बुखार 1 से 2 दिन रहता है जिसके बाद आप अपने बीमारी संबंधित नियमित दवाइयों का सेवन शुरू कर सकते हैं। 

    वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है विडियो के माध्यम से जाने 



     यह पढ़े 


    कोविड-19 वैक्सीन सम्बंधित पूछे गये सवाल जवाब (FAQ's)

    1. अगर कोई कैंसर, डायबिटीज, हाइपरटेंशन आदि की दवाएं ले रहा हो, तो क्या उसे कोविड - 19 की वैक्सीन लेना चाहिए?

    हां, यदि आप कैंसर डायबिटीज तथा हाइपरटेंशन आदि की दवाइयां ले रहे हैं ऐसे में कोविड-19 वैक्सीन का टीकाकरण करना जरूरी होता है परंतु  वैक्सीन लेने के बाद 2 दिन किसी भी दवाइयों का सेवन ना करें।परंतु यदि आपको ब्लड प्रेशर है एसेमे आप केवल प्रेशर दवाई की गोली का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा किसी अन्य प्रकार के दवाई का सेवन बिल्कुल ना करें। 


    2. यदि मुझे वर्तमान में कोविड-19 है, तो क्या मुझे अभी टीका लगवाना चाहिए?

    वर्तमान में कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति को टीकाकरण नहीं करना चाहिए। परंतु यदि कोई व्यक्ति वर्तमान में कोविड-19 से संक्रमित हैं ऐसे में कोविड-19 आइसोलेशन से बाहर आने के 14 दिन बाद कोविड-19 का टीकाकरण कर सकते हैं। 


    3. क्या कोविड-19 टीकाकरण के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है?

    हां, परंतु यदि आपको कोविड-19 टीकाकरण का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं करना आता है, तथा किसी  वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन नहीं हो रहा है, ऐसे में आप नजदीकी कोविड-19 टीकाकरण कैंप में जाकर अधिकारियों द्वारा कोविड-19 वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं और सीट खाली होने पर तुरंत टीकाकरण कर सकते हैं। कोविड-19 टीकाकरण करने के लिए केबल आधार कार्ड और मोबाइल नंबर की आवश्यकता होती है।

    4. वैक्सीन नही लगाने पर क्या होगा?

    यदि आप डर के कारन वैक्सीन नही लगा रहे है एसेमे अंजाने में यदि कोई कोविड संक्रमक व्यक्ति आपके आस पास आता है एसेमे आपको भी कोरोना बीमारी होने की संभवना हो सकती है परंतु यदि आप अन्य पीड़ित बीमारी के कारन कोविड-19 का टीकाकरण नही कर पते है एसेमे अन्य लोगो से दुरी बना कर रहे और जबतक कोरोना महामारी खत्म नही होती तब टक बाहर के अन्य लोगो से सावधानी बरखे 


    कोविड-19 टीकाकरण: निष्कर्ष 

    जैसा की आपने इस पोस्ट में वैक्सीन क्या है, वैक्सीन कैसे काम करती है तथा वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है इनके बारे में जाना देश को कोरोना मुक्त करने के लिए यह कोविड-19 टीकाकरण अभियान चल रहा है, ताकि कोरोना  संक्रमण मृत्यु दर की संख्या को कम  किया जा सके लोगो के मन में कोविड-19 टीकाकरण के साइड इफ़ेक्ट को लेकर काफी डर और घबराहट देखी गई है एसेमे जानकारी के लिए बता दू कोविड-19 टीकाकरण के कोई साइड इफ़ेक्ट नही है यदि आपका स्वास्थ अच्छा है तो आप बिना संकोच किये कोविड-19 का  टीकाकरण कर सकते है परंतु  इसके आलावा यदि आप अन्य बीमारी से पीड़ित है एसेमे कोविड-19 वैक्सीन लगाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले कोविड-19 का टीकाकरण लगवाना यह देश के प्रति आपका फर्ज बनता है 

    उम्मीद करता हु दोस्तों हमारा लिखा गया यह पोस्ट वैक्सीन के जरिए शरीर में क्या भेजा जाता है हिंदी जानकारी आपको जरुर पसंद आया होगा। Vaccine ke jariye sharir me kya bheja jata hai इसके बारे में आपकी क्या राय है कमेंट में जरुर बताये 

    यह पढ़े 

    Reactions

    Post a Comment

    0 Comments